Hindi Novel - BlackHole
Book Paradise
6.0 Varies with device
Following the mysterious disappearance of her husband, She is led by a supposed friend of her missing husband's into a mysterious world of interconnecting portals which turn out to be black holes that transcend time and reality.

बाहर दिख रहे सारे नजारे रेल्वेमें एकदूसरेसे चिपककर बैठे सुझान और डॅनियल खिडकीसे आरामसे देख रहे थे, और अपनी आखोंसे मानो उन नजारोंको पी रहे थे. देखते हूए वे रेल्वेके चलनेसे होनेवाले कंपनसे धीरे धीरे डोलभी रहे थे.

'' मुझे तो अबभी विश्वास नही हो रहा है की मेरी भारतमें हनिमुनके लिए आनेकी इच्छा पुरी हो रही है .'' सुझानने कहा.

डॅनियलने खिडकीसे बाहर देखते हूए शरारतसे अपना गाल उसके गालसे घिसा. उसने पलटकर प्यारसे उसकी तरफ देखा. वहभी प्रेमभरी नजरसे उसकी आंखोमें देखने लगा.

'' मुझे मालूम नही क्यो? लेकिन हमेशासेही मुझे भारतके बारेमें बडा आकर्षण रहा है ... यहांकी संस्कृती... यहांके लोग, हमेशासेही मेरे कौतूहलका विषय रहे है ...'' सुझानने कहा.

डॅनियलने फिरसे उसकी तर एक प्यारभरा और आकर्षनसे युक्त, उसे आवाहन करता दृष्टीक्षेप डालते हूए कहा,

'' लेकिन मुझे अब जिसके बारेमें आकर्षण लग रहा है उसका क्या ?''

सुझानने उसकी आंखोमें देखते हूए उसके भाव पढ लिए और शर्मसे अपनी नजरे झुका ली.

Content rating: Everyone

Requires OS: 2.3 and up

...more ...less